अब भिखारी हो जायेंगे अरबी, कच्चा तेल 0 से भी नीचे नेगेटिव में होने लगा ट्रेड, तेल के अलावा इनके पास कुछ नहीं


आज की तारीख है 20 अप्रैल 2020 और जब हम ये आर्टिकल लिख रहे है तो रात के 10 बज रहे है, ये समय हमने आपको इसलिए बताया क्यूंकि इस समय दुनिया में कच्चे तेल की कीमतों में तबाही मच गयी है 

आप यकीन नहीं कर सकेंगे लेकिन वेस्ट कनाडा के मार्किट में कच्चे तेल ने नेगेटिव में ट्रेड किया यानि 0% डॉलर से भी नीचे, यानि क्रूड की अब वेस्ट कनाडा में कोई कीमत नहीं, ये शून्य से भी नीचे जा चूका है 

दुनिया में क्रूड का सबसे बड़ा इंडेक्स है WTI क्रूड और इस समय WTI क्रूड 7$ से भी नीचे ट्रेड कर रहा है, अब क्रूड भारत में मिलने वाले बोतल पानी से भी सस्ता हो चूका है 

क्रूड अभी 7.5$ पर चल रहा है और ये 1 बैरल की कीमत है, 1 बैरल में 119 लीटर से भी ज्यादा होते है और अगर भारतीय रुपए में देखे तो क्रूड अभी 6 रुपए प्रति लीटर से भी सस्ता मिल रहा है, जबकि भारत में पानी के बोतल की औसत कीमत 15-20 रुपए प्रति लीटर की है

WTI क्रूड तो 8 डॉलर से नीचे है और जानकर ये मान रहे है की वेस्ट कनाडा की तरह यहाँ भी क्रूड नेगेटिव में ट्रेड कर सकता है, ये तो तय है की क्रूड 2-3$ का हो ही जायेगा 


अब ऐसे में सबसे ज्यादा तबाही अरब में ही मचेगी, अरब के लोगो के पास क्रूड के अलावा कुछ नहीं है, इनके पास न कोई टेक्नोलॉजी है, न कोई साइंस है, न खेती है न ही इनके पास कोई मैन्युफैक्चरिंग या आईटी है, इनको कुछ नहीं आता 

इनके पास जो कुछ है वो सिर्फ तेल के कारण है और तेल की अब कीमत 8$ से भी नीचे है, अगर 6 महीने से 1 साल तक तेल की कीमतें ऐसी ही रही तो अरबी भिखारी हो जायेंगे और ये भी मुमकिन है ये की लोग फिर अपनी संपत्तियां बेचने लग जाये, फिर एशिया, यूरोप में मजदुर बन जाये, अरबियों का खेल अब समाप्ति की ओर है