चावल के नाम पर देश के गरीबो को भड़का रहे राहुल गाँधी ? बन चूका है बड़े दंगे का प्लान ?


क्या कांग्रेस पार्टी और उसके सहयोगी गरीबों को भड़का कर देश में अराजकता और दंगे की साजिश कर रहे है ? ये अब एक बड़ा सवाल हो गया है क्यूंकि स्वयं राहुल गाँधी द्वारा भड़काने की कोशिश की जा रही है 

पुरे देश में कोरोना संकट को लेकर लॉक डाउन है, पर इसके बाबजूद भारत में अनाज की कोई कमी नहीं है, खाद्य भंडार पूरी तरह प्रयाप्त मात्रा में भरे हुए है और कहीं पर भी खाने पीने की चीजों की किल्लत नहीं है, फल सब्जियां राशन बाज़ारों में उपलब्ध है

पर राहुल गाँधी देश के गरीबों को भड़काने के लिए पूरा जोर लगा रहे है, आप स्वयं देखिये किस प्रकार देश के गरीबों को राहुल गाँधी भड़का रहे है 


राहुल गाँधी का कहना है की ऐ गरीबों तुम चुप मत रहो, तुम्हारे चावल से तो अमीरों के लिए हैण्ड सैनीटाईज़र बनाया जा रहा है 

आखिर राहुल गाँधी साबित क्या करना चाहते है ? देश में चावल की कहीं कोई कमी नहीं है, हर बाज़ार में चावल उसी दाम पर मिल रहा है जो पहले मिल रहा था, प्रयाप्त मात्रा में चावल उपलब्ध है, तो राहुल गाँधी गरीबों को आखिर क्यूँ भड़का रहे है ? 

[ads id="ads1"]

क्या गरीबों को भड़का कर सड़कों पर जमा करने का प्लान है, क्या लॉक डाउन को फेल करवाने का प्लान है, या फिर बड़े पैमाने पर देश में अराजकता और दंगे का प्लान है, आखिर इस तरह के भड़काऊ बातों की जरुरत ही क्यों पड़ी है जब अनाज की कहीं कोई कमी नहीं है