अर्नब तो तो सिर्फ नाम ही बताया, मुझे तो अंटोनिया का शादी से पहले का काम भी पता है : अश्विनी उपाध्याय


रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ और एंकर अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर टिप्पणी को लेकर बवाल मचा हुआ है. बिहार, छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों में कांग्रेस अर्नब के खिलाफ केस दर्ज कराकर गिरफ्तारी की मांग कर रही है. वहीं बीती रात अर्नब गोस्वामी पर कातिलाना हमला किया गया. जब वे इसमें नाकाम रहे तो कार पर स्याही फेंक दी. 

घटना के वक्त उनकी पत्नी समिया गोस्वामी भी साथ थीं. अर्नब ने अपने ऊपर हमले के लिए कांग्रेस यूथ कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाया है. इस मामले पर बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay) का बयान सामने आया है. उपाध्याय का कहना है कि अर्नब गोस्वामी ने तो केवल नाम ही बताया, मुझे तो सोनिया गांधी का शादी से पहले का काम भी पता है.

अश्विनी उपाध्याय ने गूरूवार को ट्वीट कर लिखा, “एक मेहनती ईमानदार मुख्यमंत्री और दूरदर्शी प्रधानमंत्री को चायवाला मौत का सौदागर खून का दलाल साँप बिच्छू कॉकरोच गंदी नाली का कीड़ा गुंडा और हत्यारा कहेंगे तो इटली वाली एंटोनियो माइनो भी सुनना पड़ेगा अर्नब ने तो विवाह से पहले का नाम बताया है, मुझे तो विवाह से पहले का काम भी पता है”.

उपाध्याय यहीं नहीं रूके उन्होने एक वीडियो जारी कर लिखा, “असली नाम और जन्मस्थान बताना अपराध है क्या? यदि रिश्ता समाप्त हो गया है तो राहुल जी बार-बार नानी से मिलने क्यों जाते हैं? जो लोग हमारे गुरु और गोरक्षपीठ के महंत योगी आदित्यनाथ जी को बार-बार अजय सिंह बिष्ट कहते हैं वे सोनिया जी को इटली वाली एंटोनियो माइनो कहने से क्यों चिढ़ते हैं?”.

अश्विनी उपाध्याय ने कहा कि अर्नब गोस्वामी ने जो सवाल उठाए थे, उनका जवाब देने के बजाय कांग्रेस ने जो तरीका अपनाया है वह किसी भी लोकतांत्रिक देश में नहीं चलता है. आप सेक्युलरिज्म के झंडाबरदार बनते हैं, असहिष्णता की बात करते हैं, आप तबरेज अंसारी की बात देशभर में हंगामा करते हैं, वहीं दो साधुओं की हत्या पर चुप्पी साथ लेते हैं. उपाध्याय ने कहा कि जब बाटला हाउस एनकाउंटर हुआ था तब कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया था कि पूरी रात सोनिया गांधी सो नहीं पाई थी, तथा आतंकियों की मौत पर फूट-फूटकर रोईं थीं. वहीं आज दो साधुओं की सरेआम लिंचिंग हो रही है तो सोनिया गांधी से कुछ बोला नहीं जा रहा है.

उपाध्याय ने कहा कि कांग्रेस को अर्नब गोस्वामी के सवाल का जवाब देना चाहिए था. फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन केवल कांग्रेस के पास ही नहीं, अर्नब गोस्वामी के पास भी है. उन्होने कहा कि जो लोग हिंदओं के धर्म गुरू और गोरक्षपीठ के महंत योगी आदित्यनाथ को अजय सिंह बिस्ट कहते हैं वो एंटोनिया मायनो कहने पर क्यों चिढ़ते हैं. योगी जी ने तो संन्यास ले लिया उनको कांग्रेस अजय सिंह बिस्ट कहती है, वहीं सोनिया गांधी के तो डॉक्यूमेंट्स में एंटोनिया मायनो लिखा हुआ है. 

उपाध्याय ने कहा कि ‘इटली वाली सोनिया गांधी’ कहने में क्या गलत है, उनका मायका है वहां, राहुल गांधी बार-बार नानी से मिलने जाते हैं, सोनिया खुद जाती है. अगर मायके से सोनिया गांधी का नाता टूट जाए तो इटली वाली कहने में आपत्ति हो सकती है. उपाध्याय ने कहा कि कांग्रेस की सोच निंदनीय है, उनके ऊपर हमले में महाराष्ट्र पुलिस ने जिन धाराओं मे केस दर्ज किया है, वे बहुत हल्की धाराएं हैं.

दरअसल, अर्नब गोस्वामी ने मंगलवार को महाराष्ट्र के पालघर में संत की भीड़ द्वारा हत्या कर दिए जाने पर ‘पूछता है भारत’ डिबेट कार्यक्रम किया था जिसमें कई लोगों ने हिस्सा लिया था. लाइव डिबेट के दौरान अर्नब गोस्वामी ने कांग्रेस नेता सोनिया गांधी पर कई टिप्पणियां की थीं. अर्नब पूछते हैं,” पालघर में जो संतों के साथ हुआ वही अगर पादरियों औऱ मौलवियों के साथ हुआ तो क्या लोग शांत बैठते ? तो क्या इटली वाली एंटोनिया मायनों सोनिया गांधी चुप बैठतीं ?. 

अर्नब आगे कहते हैं कि अगर पादरियों पर हमला होता तो कांग्रेस पार्टी और इटली के रोम से आने वाली सोनिया गांधी चुप नहीं रहतीं. अर्नब आगे कहते हैं सोनिया गांधी आज चुप हैं तो मन ही मन खुश हैं कि वहां संत मारे गए जहां उनकी सरकार है. वो इटली में रिपोर्ट भेजेंगी कि देखिए जहां मैने सरकार बना ली वहां हिंदू संतो को मरवा रही हूं. अर्नब आगे कहते हैं कि पालघर की घटना पर हिंदू चुप नहीं बैठेगा.