ग्रैंड मुफ़्ती ने कहा - बम फोड़ना, आतंकी हमले इस्लाम में पूरी तरह जायज


इस्लाम मजहब के कानून को शरिया कानून कहा जाता है और एक बड़े इस्लामिक मजहब गुरु ने ऐलान किया है की शरिया के हिसाब से यानि इस्लाम के हिसाब से बम फोड़ना, सुसाइड बोम्बिंग करना, आतंकवादी हमले करना पूरी तरह जायज है 

इस मजहब गुरु का नाम है शेख सादिक अल घरैनी , ये लीबिया नाम के इस्लामिक देश के सबसे बड़े इस्लामिक मजहब गुरु है और इन्हें लीबिया में ग्रैंड मुफ़्ती भी कहा जाता है 

शेख सादिक अल घरैनी ने खुलकर आतंकवादी हमले का समर्थन किया और वो भी टीवी पर सबके सामने, छिपाने जैसा कुछ है ही नहीं, विडियो भी मौजूद है जो की आप नीचे देख सकते है 

ग्रैंड मुफ़्ती से सवाल किया गया था की - सुसाइड बोम्बिंग क्या जायज है, क्या जो मुसलमान सुसाइड बोम्बिंग करते है वो जायज है या फिर वो आतंकवादी है 

इस सवाल के जवाब में ग्रैंड मुफ़्ती ने कहा की - शरिया के हिसाब से सुसाइड बोम्बिंग करना एकदम जायज है

बता दें की सुसाइड बोम्बिंग एक तरह का आतंकवादी हमला होता है जिसमे आतंकवादी अपने शरीर पर बम लगाकर दूसरों को नुक्सान पहुंचाने के मकसद से बम को उड़ा देता है, और लीबिया के ग्रैंड मुफ़्ती ने इस आतंकवाद को इस्लाम में एकदम जायज घोषित कर दिया है