फेक न्यूज़ एक्सपर्ट पत्रकार रोहिणी सिंह ने बड़ी नंगई के साथ फिर फैलाया झूठ, पकड़ लिया जनता ने


अब वो पुराने दिन चले गए जब ये लोग जो खुद को पत्रकार कहते है वो तरह तरह की स्टोरीज और प्रोपगंडा चलाते थे, अब सोशल मीडिया के ज़माने में इन लोगो को बड़ी आसानी से जनता पकड़ लेती है 

खुद को पत्रकार बताने वाली रोहिणी सिंह ने लॉक डाउन को लेकर आज बड़ी नंगई से झूठ बोला, प्रोपगंडा फैलाने के मकसद से ये झूठ बोला गया 

वैसे ये कोई पहला मामला नहीं है जब रोहिणी सिंह ने पत्रकारिता को अपमानित किया हो, उत्तर प्रदेश चुनाव के समय रोहिणी सिंह की अखिलेश यादव और उनकी समाजवादी पार्टी से करीबी काफी चर्चित भी रही है, उस दौर में रोहिणी सिंह ये प्रोपगंडा चलाती थी की अखिलेश यादव बहुत बड़े मार्जिन से उत्तर प्रदेश फिर जीत रहे है, जबकि नतीजों में अखिलेश यादव 200 से भी ज्यादा सीटों से सीधे 47 पर आ गए थे 

अब लॉक डाउन चल रहा है तो रोहिणी सिंह उसे लेकर झूठ और प्रपंच फैला रही है, देखिये आज किस नंगई से रोहिणी सिंह ने झूठ फ्रैलाया 



रोहिणी सिंह बिना कोई सबूत दिखाई लिखती है की - आज मेरे घर के डोर बेल को एक औरत ने बजाय और चावल और दाल की मदद मांगी, अपने बच्चे के लिए दूध माँगा, जब मैंने उसे ये सब दे दिया तो वो हाथ जोड़कर बोली की - मैंने कभी माँगा नहीं है, पहली बार मांग रही हूँ क्यूंकि बहुत दिक्कत है

रोहिणी सिंह आगे लिखती है की - लॉक डाउन के कारण लोगो की इज्ज़त ख़त्म हो रही है 

अब यहाँ लोगो ने रोहिणी सिंह के झूठ और प्रपंच को तुरंत पकड़ लिया 



दरअसल रोहिणी सिंह कई मंजिलो वाली सोसाइटी में रहती है, ये इस तरह की सोसाइटी है जहाँ कई दर्जन सिक्यूरिटी गार्ड्स होते है और किसी को भी भीख मांगने के लिए दरवाजे तक नहीं आने देते, ऊपर से रोहिणी सिंह 41वे मंजिल पर रहती है, तो वहां उड़कर कोई औरत चावल और दाल मांगने आ गयी ऐसा सिर्फ काल्पनिक फिल्मो में ही संभव है 

दरअसल रोहिणी सिंह और इनके साथियों को तरह तरह के प्रोपगंडा वेबसाइटस पर आर्टिकल लिखने होते है, इस से ही इनका रोजगार चलता है, इन लोगो के पास कोई कंटेंट नहीं है तो इस तरह के प्रपंच और झूठ का सहारा लिया जाता है, ये लोग पत्रकारिता को लगातार अपने झूठ की नंगई से अपमानित कर रहे है