HIV वायरस को खोजने वाले डाक्टर ने कहा - मानवनिर्मित है कोरोना वायरस, प्रकृति ने नहीं बनाया


दुनिया के सबसे बड़े वायरस एक्सपर्ट्स में से एक नोबेल प्राइज विजेता डाक्टर लुक मोंटाग्निएर ने खुलासा किया है की कोरोना वायरस जिसने दुनिया में तबाही मचाई हुई है ये कोई प्राकृतिक वायरस नहीं है, ये मानव निर्मित वायरस है और इसे मानव ने ही बनाया है 

लुक मोंटाग्निएर वो डाक्टर हैं जिन्होंने साल 1983 में HIV वायरस को खोजा था, अब रिसर्च के बाद उन्होंने कहा है की कोरोना वायरस प्राकृतिक नहीं है बल्कि मानव निर्मित है 

लुक मोंटाग्निएर के खुलासे से चीन की पोल खुल चुकी है जो कोरोना वायरस को लेकर तरह तरह की बातें कर रहा है, चीन कभी कह रहा है की ये वायरस चमगादड़ से निकला है तो कभी किसी और जानवर का नाम ले रहा है

चीन का कहना है की वायरस प्राकृतिक है पर डाक्टर लुक मोंटाग्निएर ने साफ़ कर दिया की कोरोना में प्राकृतिक होने का कोई लक्षण नहीं है, प्राकृतिक तौर पर जो वायरस होता है उसका मॉलिक्यूल स्ट्रक्चर अलग होता है जबकि कोरोना का मॉलिक्यूल स्ट्रक्चर एकदम उलट है, ये मानव द्वारा लैब में बनाया गया वायरस है 


बता दें की कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर से दुनिया में फैला है, इसी वुहान शहर में चीन ने वुहान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी नामक संसथान भी खोला हुआ है जिसमे चीन कई सालों से वायरस पर काम कर रहा है 

चीन पर दुनिया ने सवाल उठाना शुरू किया तो चीन ने चमगादड़ वाली कहानी बनाई, जबकि वुहान के वेट मार्किट में चमगादड़ बिकते ही नहीं है, फिर चीन ने पेंगोलिन नाम के जानवर की कहानी बनाई, पर चीन का झूठ एक बार फिर पकड़ा गया क्यूंकि डाक्टर लुक मोंटाग्निएर ने साफ़ कर दिया की ये कोई प्राकृतिक वायरस नहीं, न ही किसी जानवर से ये वायरस निकला है, ये लैब में बनाया गया मानव निर्मित वायरस है