सरकार का ऐलान - चीनी सीमा पर निर्माण कार्य नहीं रुकेगा, गोली का जवाब गोले से दिया जायेगा, 1 इंच भी नहीं दी जाएगी जमीन


चीन को अब मोदी सरकार ने सबक सिखा लेने का पूरा मन बना लिया है, चीन ने आज के भारत को भी 1962 वाला भारत समझ लिया और सिक्किम से लेकर लद्दाख तक में घुसबैठ की कोशिश करने लगा 

पर चीन भूल गया की आज का भारत वो भारत नहीं है जहाँ नेहरु प्रधानमंत्री और कृष्णा मेमन रक्षा मंत्री था, और हथियारों के कल कारखाने तक बंद कर दिए गए थे 

दरअसल कोरोना फैलने के बाद से चीन को लेकर दुनिया में गुस्सा है, विदेशी कम्पनियाँ चीन से भारत शिफ्ट होना चाहती है, भारत भी उनके कई तरह के ऑफर दे रहा है, चीन चाहता है की भारत ऑफर देना बंद करे 

दूसरा चीन भारत से घबराया हुआ है, भारत को लेकर दुनिया में सकारात्मक छवि बन रही है, चीन ने कोरोना दिया तो भारत ने हाइड्रोक्सी क्लोरो कुइने नाम की दावा दी थी, ऑस्ट्रेलिया चीनी समुन्द्र में भारत के साथ बड़ा रक्षा सौदा करने वाला है जिसके बाद साउथ चीन सागर में भारतीय नेवी भी दाखिल हो सकेगी, चीन बढ़ते भारत से घबरा रहा है 

इसके अलावा भारत ने लद्दाख में चीनी सीमा तक रोड और इन्फ्रा बना लिया है, 75% काम पूरा भी हो चूका है, चीन चाहता है की भारत इस कार्य को तुरंत रोक दे

अपनी इन्ही बौखलाहटो के चलते चीन ने भारत को डराने के लिए सिक्किम और लद्दाख सीमा पर अपनी सेना की गतिविधियाँ बढ़ा दी, चीन ने लद्दाख सीमा पर लगभग 7000 की सेना तैनात कर दी है और इसके साथ साथ लड़ाकू विमान भी तैनात किये है 

चीन भारत को डराकर लद्दाख की चीन सीमा तक रोड निर्माण के कार्य को रोकना चाहता था, पर भारत ने भी चीन को मुहतोड़ जवाब देने का मन बना लिया, मोदी सरकार ने चीन की हेकड़ी डोकलाम में भी  निकाली थी और एक बार फिर मोदी सरकार ने मन बना लिया है की इस बार भी चीन को मुहतोड़ जवाब दिया जायेगा 

मोदी सरकार ने फैसला किया है की लद्दाख में रोड निर्माण का कोई कार्य बंद नहीं होगा, बल्कि सरकार ने निर्माण कार्य को और तेज कर दिया है, सरकार ने साफ़ कर दिया है की भारत अपनी सीमा के अन्दर निर्माण कर रहा है और भारत को इसकी पूरी आज़ादी है 

इसके अलावा भारत ने भी चीन को जवाब देते हुए 7 हज़ार से ज्यादा सैनिको, लड़ाकू विमानों की तैनाती कर दी है, सरकार ने साफ़ कर दिया है की चीन को गोली के बदले गोले से जवाब दिया जायेगा, ये 1962 का भारत नहीं है और आज के भारत के पास हथियारों और असलहों की कोई कमी नहीं है

सरकार ने सेना की तैनाती शुरू कर दी है और चीन को साफ़ सन्देश दिया है की भारत अपनी सीमा में अपना कार्य जारी रखेगा,  और चीन को भारतीय सीमा में 1 भी इंच अन्दर नहीं आने दिया जायेगा, चीन ने अन्दर आने की कोशिश की तो फिर उसे रोकने के लिए हमारी सेना गोली का जवाब गोले से देगी और चीन का वो हाल किया जायेगा जो 1967 में किया गया था