खिलजी की तारीफ कर रहे थे जावेद अख्तर, लोगो ने पकड़ लिया, नंगा कर दिया लोगो ने इनके झूठ को



एक दौर था जब जावेद अख्तर को इस देश में एक बड़ा लेखक माना जाता था, रामचंद्र गुहा, हबीब, रोमिला थापर जैसे लोगो को इतिहासकार माना जाता था पर सोशल मीडिया ने इन सबको पूरी तरह नंगा कर दिया है और अब इन लोगो के झूठ को लोग बड़ी आसानी से पकड़ लेते है

आज़ादी के बाद से ही भारत के पुरे इतिहास को वामपंथियों और मजहबी उन्मादियों ने झूठे तरीके से पेश किया, पर अब इनका एक एक झूठ नंगा होता जा रहा है 

जावेद अख्तर ने एक टीवी कार्यक्रम में तारिक फतह से बहस के दौरान खिलजी की खूब तारीफ की और खिलजी को भारत का रखवाला बता दिया

पर अब वो जमाना नहीं रहा जब इस देश में सोशल मीडिया नहीं था और जावेद अख्तर और रोमिला थापर जैसे लोगो की कही हुई बात को ही सच मान लिया जाता था, अब यहाँ इन कथित लेखको और इतिहासकारों के झूठ को पूरी तरह नंगा कर दिया जाता है

जावेद अख्तर ने जैसे ही खिलजी की तारीफ की, लोगो ने फ़ौरन उनके झूठ को पकड़ लिया और इस उम्र में जावेद अख्तर पूरी तरह नंगे कर दिए गए, सोशल मीडिया पर फर्जी इतिहासकारों की पोल खोलने वाले ट्रू इंडोलोजी ने जावेद अख्तर को इस बार नंगा किया

जावेद अख्तर के एक एक झूठ को ट्रू इंडोलोजी ने नंगा कर दिया, जावेद अख्तर ने कहा की - खिलजी ने तो भारत को मंगोलों से बचाया, जबकि सच ये है की मंगोलों ने खुद खिलजी के नेटिव इलाके जो की अफगानिस्तान में मौजूद था वहां कब्ज़ा कर लिया, खिलजी खुद अपने गाँव तक को तो बचा नहीं सका पर जावेद अख्तर के अनुसार खिलजी ने भारत को बचा लिया 

ट्रू इंडोलोजी यहीं नहीं रुके उन्होंने जावेद अख्तर को थोडा और नंगा किया और बताया की खिलजी का बाप खुद भारत भाग आया ताकि वो मंगोलों से बच सके, ट्रू इंडोलोजी ने ये भी बताया की - जावेद अख्तर को तो ये भी नहीं पता की बख्तियार खिलजी और अलाउद्दीन खिलजी दोनों अलग अलग थे

जावेद अख्तर जो की खुद को इतिहासकार और लेखक बनते है और आतंकवादी अलाउद्दीन खिलजी का बचाव करके उसे भारत का रखवाला बता रहे थे, उनके झूठ को लोगो ने नंगा करके रख दिया और जावेद अख्तर की नंगई सबके सामने आ गयी, आतंकवादियों के बचाव में वामपंथी और मजहबी उन्मादी किस तरह झूठ फैलाते है ये भी स्पष्ट हो गया