भारतीयों के साथ गूगल ने किया धोखा, टिक टोक की रेटिंग को फर्जी तरीके से बढ़ा दिया



विदेशी सोशल मीडिया और वेबसाइटस लगातार भारतीयों के साथ पक्षपात का व्यवहार करती आई है, इन वेबसाइटस में अब गूगल भी शामिल हो चूका है जिसने भारतीयों के साथ बहुत बड़ा धोखा किया है 

दरअसल चीनी ऐप टिक टोक के खिलाफ भारतीयों ने अपने अधिकार का इस्तेमाल करते हुए गूगल प्ले स्टोर पर जाकर उसकी रेटिंग को घटा दिया था 

ये पूरी तरह क़ानूनी है, कोई भी व्यक्ति गूगल प्ले स्टोर पर जाकर किसी भी ऐप को अपने मन मुताबिक कोई भी रेटिंग देने के लिए स्वतंत्र है, भारतीयों ने भी ऐसा ही किया और टिक टोक की रेटिंग को 4.4 से घटाकर 1.2 कर दिया 

टिक टोक की रेटिंग गूगल प्ले स्टोर पर 1.2 की रह गयी, पर अब इसके बाद गूगल ने भारतीयों को बड़ा धोखा दिया और भारतीयों के 80 लाख रेटिंग्स को डिलीट कर दिया और वापस टिक टोक की रेटिंग को 4.4 कर दिया 
ये एक बड़ा धोखा है जो गूगल ने भारतीयों के साथ किया 

एक तो गूगल को चीन में बैन किया गया है, गूगल बड़े पैमाने पर भारत और भारतीयों से ही पैसा कमाता है इसके बाबजूद भारतीयों के साथ इस तरह का धोखा किया गया, साफ़ होता है की विदेशी वेबसाइटस भारतीयों के खिलाफ हीन भावना रखती है और भारतीयों को अब विदेशी वेबसाइटस की जगह अपने स्वयं के प्लेटफॉर्म्स को डेवेलोप करने की ओर काम करना ही होगा