बंद करो हिन्दुओ के खिलाफ अपनी ये नफरत, रेप करे मोहम्मद असलम, गाली खाये हिन्दू साधु



सच ये है की अधिकतर लोग अख़बार में पुरे खबर को कभी पढ़ते ही नहीं, वो बस 2 मिनट में पुरे अख़बार को पढ़ लेते है, वो सिर्फ हैडलाइन पढ़ते है, अगर किसी खबर में ख़ास रूचि हुई तब उसे पूरा पढ़ते है वरना रोज अख़बार उठाते है, हैडलाइन पढ़ते है और अख़बार रख देते है 

घिनौनी मीडिया इसका पूरा फायदा उठा रही है और हिन्दुओ के खिलाफ घृणा और नफरत की अनगिनित दुकानें खोल दी गयी है 

इसमें हिन्दू समाज की भी गलती है क्यूंकि वो चुप रहता है, वो चुप रहता है इसी कारण मोहम्मद असलम को हिन्दू तांत्रिक बना दिया जाता है 

जिस शख्स ने महिला का रेप किया उसका नाम मोहम्मद असलम है, उसे पुलिस ने पकड़ा भी है और उसकी तस्वीर भी सब मीडिया वालो के पास है, देखिये 



अब मीडिया ने क्या लिखा, क्या छापा वो भी देखिये



आपको किस एंगेल से दाढ़ी, टोपी वाला मोहम्मद असलम, भगवा वस्त्र पहनने वाला हिन्दू साधु दिखाई दे रहा है ? अख़बार के हिसाब से तो ये हिन्दू साधु है, ये भगवा वस्त्र पहने हुए हिन्दू साधु है और ये तांत्रिक है 

ये हिन्दुओ की चुप्पी ही है की आतंकवाद, बलात्कार मोहम्मद असलम करता है पर बदनाम हिन्दू साधु, हिन्दुओ, हिन्दू धर्म को किया जाता है, ये हिन्दुओ की चुप्पी का ही नतीजा है की बॉलीवुड हो या टीवी सीरियल, सोशल मीडिया हो या वेब सीरीज हर जगह अपमान हिन्दुओ का ही किया जाता है, नफरत हिन्दुओ के खिलाफ ही फैलाई जाती है 

आवाज उठाने की जरुरत है, नफरत की ये दुकानें बंद करवाने की जरुरत है अन्यथा इन दुकानों से और नफरत और जहर निकलना बाकी है