मोदी ने वाड्राओं के कब्जे से आजाद करवाया सरकारी बंगला, वाड्राओं को निकाल किया बाहर


आख़िरकार 35 लोधी एस्टेट को प्रियंका वाड्रा के कब्जे से आज़ादी मिल ही गयी, 1 जुलाई को मोदी सरकार ने प्रियंका वाड्रा को इस सरकारी बंगले को खाली करने का नोटिस दिया था और कहा था की 1 अगस्त तक इस बंगले को खाली कर दे 

कांग्रेस नेताओं ने शोर मचाने की बहुत कोशिश की पर मोदी सरकार कहाँ कांग्रेसियों की सुनती है, प्रियंका वाड्रा ने तमाम कोशिश की ताकि उनका कब्ज़ा इस सरकारी बंगले पर बना रहे पर वो नाकाम रही और आज 30 अगस्त को इस सरकारी बंगले को मोदी सरकार ने प्रियंका वाड्रा के कब्जे से आजाद करवा दिया 

लगभग ढाई दशक से प्रियंका वाड्रा इस बंगले पर ये कहकर कब्ज़ा जमाये हुए थी की मैं प्रधानमंत्री की बेटी हूँ और मुझे SPG सुरक्षा मिली हुई है, इसलिए बंगले पर मेरा अधिकार है 

बता दें की ये बंगला दिल्ली के सबसे महंगे लुटियंस इलाके में स्थित है और यहाँ पर इस तरह की प्रॉपर्टी की कीमत 1000 करोड़ रुपए से भी ज्यादा है, इतनी महँगी प्रॉपर्टी को प्रियंका वाड्रा अपना निजी घर समझकर ढाई दशक से कब्ज़ा जमाये हुए थी 

जानकारी के अनुसार फ़िलहाल प्रियंका वाड्रा अब गुरुग्राम में रहेंगी, उन्होंने कभी सोचा ही नहीं था की उन्हें सरकारी बंगला खाली करना पड़ेगा, पर मोदी सरकार ने इस सरकारी बंगले को खाली करवा ही लिया 

मूल रूप से ये बंगला मंत्रियों, सांसदों के लिए बना था, प्रियंका वाड्रा न ही केंद्र में कोई मंत्री है न ही सांसद, ऐसे में उनका इस बंगले पर कब्ज़ा वैसे ही अवैध था