अखिलेश यादव ने किया शर्मनाक कुकर्म, नेपाल में रहने वाले भारतीयों को डाला खतरे में



योगी का विरोध करना है, मोदी का विरोध करना है, बीजेपी-आरएसएस का विरोध करना है तो क्या ऐसा कुकर्म करेंगे की दुसरे देशों से भारत के रिश्ते ख़राब हो, और उन देशों में रहने वाले भारतीय संकट में आ जाये 

मीडिया और लिबरल जमात ने पिछले दिनों एक खबर तेजी से फैलाई और वो खबर ये की वाराणसी में एक नेपाली शख्स को मारा पीटा गया, फिर उसका सर मूंड दिया गया और उस से जय श्री राम के नारे लगवाए 

इस फेक न्यूज़ को अखिलेश यादव ने भी तेजी से फैलाया और जैसे ही अखिलेश यादव ने इस फेक न्यूज़ को फैलाया वैसे ही पूरी की पूरी समाजवादी पार्टी भी इस फेक न्यूज़ को फैलाने लगे 

जबकि सच ये है की जिस शख्स का सर मुंडा गया उसका नाम धर्मेन्द्र है और वो नेपाली नहीं बल्कि भारतीय है और वाराणसी में ही एक साड़ी की दूकान में काम करता है, धर्मेन्द्र 1000 रुपए लेकर नेपाली बना था 

सच को उत्तर प्रदेश पुलिस ने आज जांच के बाद सामने रखा और ये भी बताया की इस मामले में 4 को गिरफ्तार किया गया है जबकि 1 फरार है, इसके बाबजूद अखिलेश यादव ने सिर्फ मोदी-योगी-बीजेपी के विरोध के लिए ये कुकर्म किया 
बीबीसी नाम के विदेशी न्यूज़ संस्था के फर्जी न्यूज़ को अखिलेश यादव ने आगे बढाया और योगी-मोदी-बीजेपी पर निशाना साधा 

अखिलेश यादव ने फर्जीवाडा किया और उनकी पूरी पार्टी भी इस फेक न्यूज़ को तेजी से फैलाने लगी और ये कुकर्म कर अखिलेश यादव और उनकी पार्टी ने नेपाल में रहने वाले भारतीयों को खतरे में डाल दिया, सिर्फ बीजेपी के विरोध के लिए ऐसा कुकर्म बेहद आपत्तिजनक है