प्रतापगढ़ में मुस्लिम लोगो ने भीड़ बनाकर दलितों को चारों ओर से घेरा, बहुत मारा, कईयों को लहुलुहान किया



मुस्लिम लोगो की भीड़ ने एक बार फिर दलित लोगो को शिकार बनाया है, जौनपुर और आजमगढ़ के बाद अब उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ संप्रदाय विशेष के लोगों द्वार दलितों पर बर्बरता का मामला सामने आ रहा है. यहां एक मामली विवाद में धारदार हथियारों, लाठी-डंडों से दलित बस्ती पर हमला बोला गया. इस हमले में 9 लोग घायल हो गए, जिसमें तीन की हालत गंभीर बताई जा रही है.

पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए 17 नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया. पुलिस ने आशिक अली समेत 7 आरोपियों का गिरफ्तार कर लिया है, बाकी की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है. घटना के बाद से गांव में तनाव फैल गया, वहीं एहतियातन इलाके में भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है.

जानकारी के मुताबिक यह पूरा मामला बाघराय थाने के अंतर्गत आने वाले महाराजगंज गांव का बताया जा रहा है. जहां नागपंचमी के दिन लंबी दूरी कूदने वाली रिवाज मना रहे थे, अखाड़ा कूदने के दौरान वहां मुस्लिम समुदाय के आशिक अली, असगर अली आदि भी आ गए, इन दोनों ने अखाड़ा कूदने की जिद करने लगे जिस पर वहां लोगों ने इसे हिंदू समुदाय की रिवाज बताकर मना कर दिया. इस पर आशिक अली भड़क गया और गालियां देने लगा जिस पर दोनों पक्षों में मामूली विवाद हो गया. किसी तरह वहां उपस्थित लोगों ने मामला शांत कराया.

सोमवार रात पिंटू सरोज मोबाइल पर बात करते हुए जा रहा था तभी आशिक अली ने साथियों संग मिलकर हमला कर दिया, औऱ पिंटू को पीटने लगे. शोर सुनकर गांव के लोग मदद को दौड़े तो पहले से घात लगाए बैठे आशिक अली के साथियों ने धारदार हथियारों, लाडी-डंडों से पूरी दलित बस्ती पर हमला बोल दिया. जो जहां मिला उसे वहीं जमकर पीटा.

इस हमले में अमृतलाल सरोज, जयचंद्र, रामफल, लल्लूराम, बृजलाल, पिंटू, अरविंद, मोहित, सुखलाल घायल हो गए. घटना की सूचना मिलते ही बिना कोई देरी किए पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया. पिंटू, रामफल व लल्लू की हालत गंभीर देख उन्हें एसआरएन प्रयागराज में रेफर कर दिया.

पुलिस ने ग्रामीणों की तहरीर पर आशिक अली, उल्फत अली, अफसर अली, असगर अली, पप्पू बादशाह, भूरा, अस्सा जायफर, सलामत, इंसान अली, शमशेर, बबुआ, अनवर, अमीन, बदल, समीर समेत 17 नामजद व 50 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है.  पुलिस ने छापेमारी कर जाफर अली, मो. इशहाक, मो. करम, असगर अली, वली मोहम्मद, नूर मोहम्मद, अफसर अली को गिरफ्तार कर लिया है, बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है.

घटना के बाद से गांव में तनाव फैल गया, वहीं एहतियातन इलाके में भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है. वहीं इस मामले पर एएसपी दिनेश द्विवेदी का कहना है कि छोटे से विवाद को बड़ा रूप दे दिया गया. इस घटना में शामिल लोगों को कतई नहीं बख्शा जाएगा. जल्द ही बाकी आरोपी भी पुलिस की गरिफ्त में होंगे.