हिन्दू धर्मनगरी चित्रकूट में "डाकू शंकरवा" के नाम से आतंक मचाने वाला निकला मोहम्मद हनीफ


वह ऐसे धर्म नगरी है जहां पर दुनिया भर के श्रद्धालु भगवान श्री राम के पद चिन्हों पर चलने के संकल्प के साथ आया करते हैं। उस पवित्र स्थल को अपवित्र करने के लिए इस दुर्दांत डाकू ने जितना हो सके उतना प्रयास किया और स्थानीय जनता में दहशत बनाने में भी सफल रहा था। लेकिन आखिरकार उत्तर प्रदेश पुलिस ने अपने हाथ खोल ही दिए और धर्म नगरी को अपवित्र करते डाकू को धूल चटा ही दी।

उत्तर प्रदेश के जिला चित्रकूट से आ रही है एक सुखद खबर के अनुसार एक दुर्दांत डाकू को पुलिस की गोली लगी है और अब वह पुलिस की कस्टडी में है। चित्रकूट के मानिकपुर में पुलिस ने चुरेह केशरूआ के जंगल में मुठभेड़ के दौरान गोली लगने के बाद 50 हजार के इनामी डाकू सरगना हनीफ को गिरफ्तार कर लिया है। आमने सामने की मुठभेड़ के बाद सत्तकता बरत रही पुलिस की एक गोली डाकू के बाएं पैर में लगी है जिसके बाद उसने हाथ खड़े कर दिये थे.. सबसे खास बात ये है कि डाकू हनीफ अपने असल नाम के बजाय हिंदुओं के आराध्य भगवान शंकर के नाम शंकरवा को प्रयोग करता था और बहुत कम लोग उसके असल नाम हनीफ से जानते थे..

लंबे समय से फरार शंकरवा बम इस इस डाकू हनीफ पर कई थानों में लगभग 15 मामले दर्ज हैं। वह टॉप टेन अपराधियों की श्रेेणी में शामिल था और एक लंबे समय से पुलिस से बचता आ रहा था.. उसकी तलाश में लंबे समय से लगी पुलिस को कई माह से डाकू सरगना व रज्जाक का बेटा मोहम्मद हनीफ निवासी शिवपुर मऊ की तलाश थी। डाकुओं से प्रदेश को मुक्त करने में प्रयासरत पुलिस टीमें इस गैंग के खात्मे के लिए  लगातार एक लक्ष्य पर काम कर रही थीं।इस से पहले भी गैंग के दो सदस्यों को पुलिस एक माह के अंदर मुठभेड़ में पकड़ चुकी है..पर अब ये उपलब्धि सबसे बड़ी मानी जा रही..

इस बड़ी और कड़ी कार्यवाही के मुखिया व नेतृत्व कर्ता रहे पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल ने बताया कि बृहस्पतिवार रात सूचना मिली थी कि हनीफ मानिकपुर के चुरेह केशरूआ के जंगल के आसपास मौजूद है। वह किसी बड़ी वारदात को अंजाम देना चाहता है। सूचना पर मानिकपुर पुलिस टीम के अलावा स्वाट टीम और सरैंया चौकी की टीम को रात में ही घेराबंदी के निर्देश दिए गए।

इस डाकू की गिरफ्तारी के बाद स्थानीय जनता ने चैन की सांस ली है और उत्तर प्रदेश शासन का धन्यवाद किया है जिसने इतने लंबे समय से वांछित इस मोस्ट वांटेड और शंकर वा नाम रखकर जनता को भी चकमा दे रहे हनीफ को पकड़ लिया है। पुलिस की इस कार्यवाही से बीहड़ क्षेत्रों में बचे डकैतों में भय का माहौल है और स्थानीय जनमानस जल्द ही प्रदेश के 10 से मुक्त होने की कामना कर रहा है। पुलिस केस कार्यवाही ने स्थानीय जनता का पुलिस के प्रति विश्वास और भी ज्यादा बढ़ाया है।