मोदी को घेरने के लिए सुबह उठते ही राहुल गाँधी ने बोला झूठ, फिर करवाई अपनी बेईज्ज़ती


अब झूठ प्रपंच की राजनीती ही राहुल गाँधी और कांग्रेस की राजनीती बनकर रह गयी है, रोज कोई न कोई झूठ, रोज कोई न कोई प्रपंच, रोज कोई न कोई प्रोपगंडा

आज मोदी पर निशाना साधने के लिए राहुल गाँधी ने सुबह उठते ही फिर झूठ बोला, प्रपंच फैलाने की कोशिश की पर हर बार की तरह इनका झूठ फिर पकड़ा गया, सिर्फ कुछ ही मिनट में राहुल गाँधी के प्रपंच की असलियत बाहर आ गयी

राहुल गाँधी ने आज मोदी पर निशाना सधाने के लिए एक पेपर की कटिंग त्वीट की और बताया की मोदी सरकार ने तो श्रमिक ट्रेनों से भी करोडो रुपए की कमाई की है

राहुल गाँधी ने बताने की कोशिश करी की मोदी ने मजदूरों से भी पैसा लिया, और  रेलवे ने श्रमिक ट्रेनों से भी कमाई की, देखिये
राहुल गाँधी ने बताने की कोशिश करी की मोदी ने मजदूरों को लूटा है

अब जिस पेपर कटिंग को राहुल गाँधी ने शेयर किया वो न्यूज़ पेपर भी राहुल गाँधी की तरह ही प्रपंच फैलाने वाला है, क्यूंकि इस पेपर ने पूरी कहानी नहीं लिखी



असल बात ये है की सरकार ने कोरोना को देखते हुए मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए श्रमिक ट्रेनें चलाई थी, सरकार ने इन ट्रेनों पर अपनी तरफ से कुल 2142 करोड़ रुपए खर्च किए, अब केंद्र सरकार ने अलग अलग राज्य सरकारों से भी पैसा लिया, और राज्य सरकारों से स्सर्कार को 429 करोड़ रुपए मिले, ये 429 करोड़ को ही राहुल गाँधी ने कमाई बता डाला

सरकार को तो असल में 1713 करोड़ रुपए का नुक्सान ही हुआ है, सरकार ने किसी मजदुर से 1 रुपए भी नहीं कमाए, सबको फ्री में ही उनके घरों तक पहुँचाया 

रेल मंत्री पियूष गोयल ने भी राहुल गद्न्ही के फर्जीवाड़े पर तीखा हमला बोला
राहुल गाँधी की माँ ने वादा किया था की वो मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए पैसा देगी, कांग्रेस पार्टी अपनी तरफ से पैसा देगी, कांग्रेस ने आजतक 1 पैसा भी नहीं दिया, ऊपर से राहुल गाँधी ने मोदी पर हमला बोलने के लिए फिर फर्जीवाडा किया और उनका फर्जीवाडा सिर्फ कुछ मिनट ही चला