पहले गुरूद्वारे को उड़ाकर पिता को मार डाला अब नाबालिग सिख लड़की को उठाया


पिछले ही दिनों 25 अप्रैल 2020 को काबुल में मजहबी उन्मादियों ने एक गुरूद्वारे को काफिरों का स्थान बताकर उसपर हमला किया था, गुरूद्वारे पर हुए हमले में 25 सिखों को मजहबी उन्मादीयों ने मौत के घाट उतार दिया था 

गुरूद्वारे पर हुए हमले में एक सिख व्यक्ति जिनका नाम सुरजन सिंह था उनको मजहबी उन्मादियों ने मौत के घाट उतार दिया था, सुरजन सिंह की एक बेटी बची थी जो की 13 साल की थी, बेटी का नाम सलमीत कौर है 

अब मजहबी उन्मादियों ने इस 13 साल की सिख बच्ची सलमीत कौर को उठा लिया है, पहले गुरूद्वारे पर हमला कर उसके पिता को मौत के घाट उतार दिया अब इस 13 साल की नाबालिग सिख बच्ची को मजहबी उन्मादियों ने गुरुद्वारा बाबा श्री चाँद के पास से उठा लिया है 

सलमीत कौर 13 साल की है और गुरुद्वारा बाबा श्री चाँद के पास अपनी अंधी माता और छोटे भाई के साथ रह रही थी, पिता को पहले ही मजहबी उन्मादियों ने 25 अप्रैल को मौत के घाट उतारा था 

बता दें की मजहबी बहुल इलाकों में दुसरे धर्म की महिलाओं और बच्चियों का इस प्रकार अगवा किया जाना कोई नयी बात नहीं है, आये दिन हिन्दू, सिख और इसाई महिलाओं और बच्चियों को मजहबी उन्मादी इसी प्रकार उठा रहे है