"भगवान राम तो मेरे मन में बसे है, राम ही प्रेम, न्याय, करुणा हैं" : राहुल गाँधी


आज राम मंदिर के पुनर्निर्माण की शुरुवात के साथ ही पूरी की पूरी कांग्रेस रामभक्त हो गयी, अब राहुल गाँधी ने भी खुद को रामभक्त घोषित कर दिया और भगवान् राम के तारीफों की पुल बाँध दी 

साल 2007 में कांग्रेस ने लिखित में सुप्रीम कोर्ट में कहा था की - राम तो काल्पनिक है, राम कोई था ही नहीं तो फिर रामसेतु काहे का, तोड़ दो रामसेतु 

आज 2020 में वही कांग्रेस पूरी की पूरी रामभक्त हो गयी, कल 4 अगस्त को प्रियंका वाड्रा और फिर उनके हसबैंड रोबर्ट वाड्रा ने खुद को रामभक्त घोषित किया 

और आज 5 अगस्त यानि भूमिपूजन के दिन राहुल गाँधी ने भी खुद को रामभक्त घोषित कर दिया 

राहुल गाँधी ने कहा की - मेरे तो मन के अन्दर भगवान् राम ही बसे हुए है, राम ही करुणा है, राम ही प्रेम है, राम ही तो न्याय है 

देखिये राहुल गाँधी किस तरह भगवान् राम की तारीफ कर रहे है 

2007 में भगवान् राम को काल्पनिक बताने वाले अब भगवान् राम को करुणा प्रेम और न्याय बता रहे है

ये वही राहुल गाँधी है जो कहते थे की - हिन्दू तो मंदिर में लड़कियां छेड़ने जाते है, मेरा तो किसी भी तरह के हिन्दू धर्म पर भरोसा नहीं है, ये हिन्दू तो लश्कर से भी ज्यादा खतरनाक है 

वीर सावरकर ने एक बार कहा था की - जिस दिन हिन्दू एकजुट होने लगेगा उस दिन कांग्रेस के नेता अपने कोट के ऊपर जनेऊ पहनेंगे, सावरकर पूरी तरह सही थे