अयोध्या पर भड़का ओवैसी, लोगो ने कहा - " मियां, अभी काशी मथुरा और तेरी घर वापसी बाकी है"


मजहबी उन्मादियों ने फिर एक बार साबित कर दिया की इन्हें भारत के संविधान और सुप्रीम कोर्ट पर कोई भरोसा नहीं है, ये पहले कहा करते थे की ये आंबेडकर के संविधान और भारत के सुप्रीम कोर्ट पर पूरा भरोसा करेंगे और सुप्रीम कोर्ट अयोध्या मसले पर जो फैसला देगा उसे मान लिया जायेगा 

कोर्ट ने सारे सबूत देखे और फैसला राम मंदिर के पक्ष में दिया, अब राम मंदिर का पुनर्निर्माण शुरू हो गया तो यही मजहबी उन्मादी बाबरी मस्जिद की मांग करने लगे 

हैदराबाद के लोकसभा सांसद ओवैसी ने भी मजहबी उन्माद का प्रदर्शन किया और राम मंदिर के पुनर्निर्माण पर बाबरी मस्जिद की बात की, वो बाबरी मस्जिद जिसे आतंकवादी बाबर और मीर बांकी ने राम मंदिर तोड़कर बनाया था 

ओवैसी ने कहा की - बाबरी मस्जिद थी और हमेशा रहेगी, लोगो ने भी ओवैसी को जवाब देने में देरी नहीं की और कहा की - ऐसा ही त्वीट तू काशी और मथुरा के लिए भी ड्राफ्ट कर ले 

लोगो ने कहा की अयोध्या तो झांकी है अभी काशी मथुरा और ओवैसी तेरी घर वापसी बाकी है, देखिये 


बता दें की अयोध्या की तरह ही इस्लामिक आतंकवादियों ने काशी और मथुरा में भी मंदिर को तोड़कर वहां मस्जिद बनाई थी, आज भी इन स्थानों की मुक्ति बाकी है 

इसके अलावा ओवैसी के पूर्वज भी हिन्दू थे, ओवैसी खुद को भले अरबी मुसलमानों की औलाद बताये पर इसके पूर्वज भी हिन्दू ही थे और लोगो ने ओवैसी को घर वापसी के लिए कह दिया है