आज के कालनेमि, इन सभी कांग्रेस नेताओं ने लगाया जय श्री राम का नारा, करवा रहे हनुमान चालीसा


कालनेमि रामायण का एक पात्र था, थोडा इसके बारे में भी आपको बता देते है, कालनेमि रावण की सेना का एक राक्षस था, हनुमान जी लक्ष्मण जी के लिए जड़ी बूटी लाने गए थे, तब रावण ने कालनेमि को काम सौंपा था की वो हनुमान को किसी भी तरह रोके और समय पर आने ही न दे

कालनेमि ने एक ऋषि का भेष बनाया और रस्ते में बैठ गया और राम नाम जपने लगा, हनुमान उसे देख रुक गए और उन्होंने सोचा की ये कोई राम भक्त है, वहीँ कालनेमि ने हनुमान को मारने की योजना भी बना ली, पर हनुमान को शाप से मुक्त होकर एक देवी ने बता दिया की जिसे वो राम भक्त समझ रहे है वो रावण का राक्षस कालनेमि है, जिसके बाद हनुमान ने कालनेमि का वध कर दिया

ऊपर तस्वीर में आप प्रियंका वाड्रा, दिग्विजय सिंह, मनीष तिवारी और कमलनाथ की तस्वीर देख रहे है, इन्हें आप कलियुग के कालनेमि कह सकते है

ये वो लोग है जिन्होंने भगवान् राम के अस्तित्व को ही नकार दिया था, इन लोगो ने बाबरी मस्जिद का समर्थन किया था, इन लोगो ने हिन्दुओ को आतंकवादी बताने की कोशिश भी की, रामसेतु को भी तोड़ने की कोशिश की और आज ये सब जय श्री राम का नारा लगा रहे है

दिग्विजय सिंह और कलामनाथ राम नाम ले रहे है, कमलनाथ तो हनुमान चालीसा भी करवा रहे है और दिग्विजय सिंह कह रहे है की राम मंदिर के निर्माण में तो कांग्रेस का भी हाथ है, असल में मध्य प्रदेश में उपचुनाव होने वाले है और मध्य प्रदेश में हिन्दुओ की जनसँख्या 90% से भी ज्यादा है, और ऐसे में इन लोगो को राम नाम लेना ही है

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने तो बाकायदा अपना DP भी बदल दिया है
इसके अलावा देखिये कैसे प्रियंका वाड्रा जय श्री राम का नारा लगा रही है
रक्षाबंधन न मनाने वाली प्रियंका वाड्रा लिखित में जय सियाराम बोल रही है, अब इसे उत्तर प्रदेश में राजनीती करनी है जहाँ अब हिन्दू एकजुट है और श्री राम के बिना काम चलने वाला है नहीं

देखिये कैसे मनीष तिवारी भी राम मंदिर की शुभकामना दे रहा है
वीर सावरकर ने एक बार कहा था की - अगर हिन्दू एकजुट हो गया तो नेता कोट के ऊपर भी जनेऊ पहनेंगे, सावरकर की बात 100% सही है 

जिन लोगो ने राम को ही काल्पनिक बताया, रामसेतु को तोड़ने की कोशिश की, बाबरी मस्जिद बनवाने की कोशिश की, हिन्दुओ को आतंकवादी घोषित करने की कोशिश की वो कालनेमि आज राम राम कर रहे है