मारने से पहले सुशांत को बुरी तरह पीटा गया, पट्टे से घोंटा गया गला, पुलिस की हरकतें संदिग्ध


सुशांत सिंह राजपूत के मर्डर में मुंबई पुलिस खुद संदिग्ध है और इसका कारण ये है की मर्डर में बड़े लोग शामिल है, और ऐसे लोग जिनको बचाने के लिए मुंबई की पुलिस किसी भी हद तक जाने को तैयार है 

बताया गया की सुशांत सिंह राजपूत ने अपने फ्लैट में 14 जून को सुबह गेम खेलने के बाद आत्महत्या कर ली, पर असल में उनकी हत्या 13-15 घंटे पहले ही कर दी गई थी यानि उन्हें 13 जून को मारा गया था 

सुशांत ने कोई आत्महत्या नहीं की और उसके ढेरों सबूत मौजूद है, डाक्टर मिनाक्षी मिश्रा ने इसे लेकर बड़े खुलासे किये और बड़ी जानकारियां सामने रखी 

आप खुद ही देखिये 

सुशांत सिंह राजपूत के चेहरे पर मुक्के मारने के निशान है, मुक्के मारने की वजह से उनके आँख के ऊपर और साथ ही गाल पर भी निशान बने है, जिन्हें कोई भी कम पढ़ा लिखा व्यक्ति भी आसानी से देख कर समझ सकता है 

सुशांत सिंह राजपूत के गले पर कुत्ते के पट्टे से गला घोंटने के निशान है, सुशांत के पास कुत्ते थे, कदाचित उनके ही फ्लैट में मौजूद कुत्ते के पट्टे से उनका गला घोंटा गया है

इतना ही नहीं सुशांत के होंठों पर भी निशान है जिस से साबित होता है की या तो उन्हें ड्रग्स दिया गया था या जहर का डोज भी दिया गया था 

मर्डर के तमाम सबूत मौजदू है इसके बाबजूद मुंबई की पुलिस ने मामले में आजतक 1 केस तक दर्ज नहीं किया, पुलिस ने सबूतों से खुद छेड़छाड़ की है सबूतों को मिटाया है, और इसी कारण मुंबई की पुलिस बिहार से आई पुलिस को भी जांच करने से रोक रही है

मामले में इतनी चीजें अब संदिग्ध हो चुकी है जिस से साफ़ होता है की सुशांत सिंह राजपूत के मर्डर में बड़े लोग शामिल है और इन बड़े लोगो को पुलिस और सरकार बचाना चाहती है