ताइवान ने उड़ाया चीनी फाइटर जेट, रूस से गिदगिड़ा कर चीन ने लिया था ये जेट, चीनी पायलट्स की पोल खुली


चीनी सेना की पोल एक बार फिर खुल गयी, चीन भारत को धमकियाँ देता था, भारत ने जब पलटवार शुरू किया तो चीन की सेना डोकलाम से लेकर लद्दाख तक पिट गयी

भारत की तरह ही चीन आये दिन ताइवान को धमकियाँ दे रहा था और चीन ने ताइवान को डराने के लिए अपना फाइटर प्लेन ताइवान की सीमा पर उडाना शुरू कर दिया

आज चीन ने ताइवान को डराने के लिए सुखोई-35 फाइटर जेट का इस्तेमाल किया, ये फाइटर जेट मूल रूप से रूस से लिया गया था, चीन के खुद के फाइटर जेट किसी काम के नहीं है, ताइवान को डराने के लिए चीन रूस से लिए गए सुखोई-35 को उड़ा रहा था

चीनी वायु सेना का एक पायलट सुखोई-35 लेकर ताइवान की सीमा की ओर बढ़ा पर ताइवान ने बड़ी आसानी से चीनी सुखोई-35 को उड़ा दिया

ताइवान ने चीनी फाइटर जेट को जमीन पर गिरा दिया और इसका पायलट भी अब लापता है, पायलट जिन्दा भी है या नहीं ये साफ़ नहीं है

यहाँ मुख्य चीज ये है की रूस का सुखोई-35 फाइटर जेट कोई आम फाइटर जेट नहीं है, और इसे मार गिराना भी आसान नहीं है, पर ताइवान ने बड़ी आसानी से सुखोई-35 को मार गिराया जिस से चीन के पायलट्स की ही काबिलियत पर अब सवाल उठ रहे है 

चीन के खुद के फाइटर जेट सिर्फ दिखाने के काम आते है, चीन इन जेट्स का इस्तेमाल दुसरे देशों के आसपास भी नहीं करता, चीन रूस के सुखोई-35 का इस्तेमाल कर रहा था पर वो भी ताइवान ने मार गिराया जिस से साफ़ हो जाता है की चीन के खुद के फाइटर जेट और चीन के पायलट्स दोनों में ही काबिलियत नहीं है, चीन सिर्फ दुसरे देशों को धमकी देता है पर दुसरे देश धमकी से न डरे और पलटवार करे तो ऐसी सूरत में मार चीन ही खाता है