रविश कुमार का बला*कारी भाई तीसरे नंबर पर, सूपड़ा ही साफ़, कांग्रेस के टिकेट पे लड़ रहा था चुनाव


एक दलित लड़की का मिलकर गैंगरेप किया गया था, फिर केस दर्ज हुआ तो महीनो तक अंडरग्राउंड रहा, फिर दलित परिवार के साथ सेटिंग कर ली और अपने बलात्कारी साथी से पीड़ित लड़की की शादी करवा दी

कांग्रेस के टिकेट पर चुनाव लड़ रहा ब्रिजेश कुमार पाण्डेय बुरी तरह चुनाव हार गया है, कथित पत्रकार रविश कुमार जिसका पूरा नाम रविश कुमार पांडे है वो उसका बड़ा भाई है 

ब्रिजेश कुमार पांडे कांग्रेस के टिकेट पर बिहार के मोतिहारी जिले के गोविन्दगंज विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ रहा था

इस सीट पर ब्रिजेश कुमार पांडे को बीजेपी के उम्मीदवार सुनील मणि तिवारी ने बुरी तरह रौंद दिया और जीत दर्ज की 

इस से पहले मीडिया ने इस सीट पर जो एग्जिट पोल दिखाया था उसमे रविश कुमार के भाई ब्रिजेश कुमार को विजयी घोषित कर दिया था पर जब असल नतीजे निकले तो ब्रिजेश कुमार पांडे का सूपड़ा ही साफ़ हो गया 

बिहार में कांग्रेस की भी बुरी गत हुई और कांग्रेस के साथ दलाल मीडिया का भी बुरा हाल हो गया, दलाल मीडिया ने तमाम एग्जिट पोल्स में महागठबंधन की जीत का दावा किया था पर बिहार में फिर एक बार NDA की जीत हुई